शीर्ष ऊपर जाएँ
duac.org

दिल्ली नगर कला आयोग
(संसद के एक अधिनियम, भारत सरकार के अधीन एक सांविधिक निकाय)

भाषा: हिंदी | English
Indian Flag...

तीव्र लिंक

कार्यालय का पता

दिल्ली नगर कला आयोग (दि.न.क.आ.)

कोर-6ए,यू.जी तथा  प्रथम तल, भारत पर्यावास केन्द्र,

लोधी रोड, नई दिल्ली - 110003

ई-मेल - duac74@gmail.com,

फोन - 011 - 24619593

फैक्स - 011 - 24648970

topiramat qe ogvinbruger.site topiramat og alkohol
topiramat qe topiramat johanniskraut topiramat og alkohol
topiramat qe topiramat johanniskraut topiramat og alkohol
topiramat qe topiramat gewichtsverlust topiramat og alkohol



इतिवृत

दिल्ली नगर कला आयोग की स्थापना वर्ष 1973 में संसद द्वारा पारित एक अधिनियम द्वारा 'भारत सरकार को दिल्ली भर में शहरी और पर्यावरणीय डिज़ाइन की सौंदर्यबोधक गुणवत्ता के परिरक्षण, विकास और रख-रखाव बावत सलाह देने तथा विभिन्न स्थानीय निकायों को ऐसे निर्माण कार्यों या इंजीनियरी क्रियाकलापों की परियोजना या विकास प्रस्ताव के बारे में परामर्श और मार्गदर्शन देने` के लिये की गई थी, जो आस-पास की रूपरेखा या सौंदर्यबोधक विशेषता या निकाय के दायरे में प्रदत्त किसी सार्वजनिक सुविधा पर असर डालती हो या जिसके असर डालने की संभावना हो ।

दिल्ली नगर कला आयोग के गठन के बाद के वर्षों में दिल्ली के क्षेत्रफल में काफी बढ़ोतरी हुई है और मकानों का सधनता के आधार पर निर्माण हुआ है, इससे मूल अधिदेश में सुपुर्द कार्यों की सार्थकता और भी अधिक बढ़ गई है । अब परिवेश और विरासत अति आवश्यक सरोकार बन गये हैं, तथा जहां निर्णयकारी निकायों की संख्या एक से अधिक हो, वहॉं समग्र शहर को एक सूत्र में बांधे रखने में पहले की तुलना में अनेक कठिनाइयां पैदा हो रही हैं ऐसी स्थिति में शहर के घटक तत्वों के भविष्य को लेकर एक विज़न (संकल्पना) की महती आवश्यकता है ।

पिछले साल अप्रैल 2005 में वर्तमान आयोग के पदस्थापित होते ही नये दिशा-निर्देशों के साथ दिल्ली नगर कला आयोग ने नगर स्तर के सभी मुद्दों (पथ सज्जा से लेकर भवनों की सधनता एवं क्षितिज पर्यावरण) के बारे में समग्रतापूर्ण दृष्टिकोण अपनाने तथा विभिन्न प्रस्तावों पर स्थलों के आकार व अवस्थिति के अनुसार उनकी उत्कृष्टता के अनुरूप रूख अपनाने की नीति जारी रखी ।

आयोग का प्रमुख सरोकार

अगर 1970 के दशक में अनियंत्रित गगन चुम्बी निर्माणों के मुद्दों के बारे में था, और 1980 के दशक में एशियाई खेलों के आयोजन से जुड़े मुद्दों तथा 1990 के दशक में द्वारका के निर्माण एवं नई दिल्ली बंगला ज़ोन क्षेत्र को सुस्थिर-संतुलित बनाये रखने के सरोकारों को लेकर था, वहीं वर्तमान दशक के मुख्य सरोकार चार मुद्दों - खुले हवादार परिसरों, नदी क्षेत्रों और वनक्षेत्र को खतरे के शेष मामलों, एतिहासिक आबादी इलाकों में जीवन की गुणवत्ता, जीर्णशीर्ण व जर्जर इलाकों के सुरूचिपूर्ण कायाकल्प को सुनिश्चित करने की जरूरत तथा यातायात नेटवर्क (मार्गों) को मानवीय जीवन की रक्षा की खासियत के साथ अधिक सुविधाजनक बनाने की जरूरत को लेकर हैं । नगर स्तरीय मुद्दों को उजागर करने के बारे में दिल्ली नगर कला आयोग का महत्वपूर्ण प्रयास पिछले वर्ष ''दिल्ली का भावी स्वरूप - इमेज़िनिंग दिल्ली`नामक प्रदर्शनी के आयोजन का था, जिसके बाद समान रूप से महत्वपूर्ण एक अन्य प्रयास भावी डिज़ाइन अभिकल्पों के मॉडल स्वरूप मानक संरचनात्मक ढाँचों के स्रज़न का था ।

आयोग के मुख्य क्रियाकलाप

आयोग के मुख्य क्रियाकलाप  असंख्य समस्या / सरोकारों में विस्तीर्ण रहे हैं । आयोग ने नए मेट्रो मार्गों तथा राष्ट्रमंडल खेलों की परियोजनाओं तथा वर्तमान संस्थानों के विस्तारों की उनमें निहित पर्यावरण-परिवेश तथा एतिहासिक प्रतिवेश के संदर्भ में जांच परख की । शाहजहांनाबाद के कायाकल्प के उपायों की पहचान के लिये परस्परव्यापी कार्यदायरे वाली एजेंसियों को विचार-विमर्श के लिये बुलाया गया । संरचनात्मक ढांचे सुलभ कराने के लिये आयोग द्वारा शुरू की गई अग्रगामी परियोजनाओं के अन्तर्गत खिड़की गॉंव के प्रस्ताव तथा नई दिल्ली नगर पालिका परिषद की ज़ोनल विकास योजना पर कार्यवाही के प्रस्ताव शामिल थे । परिवहन-कारीडोरों (समर्पित मार्गों) के सुधार और विस्तार के अति आवश्यक मुद्दों और उनके समाधान पर काफी समय लगाकर सोच विचार किया गया है । दिल्ली के मास्टर प्लान पर चर्चा के लिये आयोग ने एक सेमिनार का आयोजन किया तथा पूर्वी दिल्ली और जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम के बीच प्रस्ताविक सम्पर्क मार्ग (लिंक रोड) के मुद्दों पर विचार मंथन के लिये इच्छुक वास्तुकारों की एक बैठक बुलाई गई । कला-कार्य को      जन परियोजनाओं में विशेषतौर पर राष्ट्रमण्डल खेलों के चयनित सथलों पर  प्रोत्साहित करने हेतु आयोग ने 11.4.09 को अन्य कार्यशाला आयोजित की .

आयोग ने राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन के अवसर पर दिल्ली में आने वाले पर्यटकों के लिए दिल्ली की झांकी प्रस्तुत करने हेतु "दिल्लीनामा" नामक प्रदर्शनी का आयोजन किया । इस आकर्षक शहर की जीवनी विद्वानों, व्यवसायिकों, शिल्पकारों के एक वर्ष से अधिक गहन अनुसंधान द्वारा प्रस्तुत की गई । इस टीम ने नगर के विराट समकालिक स्पंदन को, समय की परतों में छुपे हुए आश्चर्यजनक घटनाक्रम को परत दर परत खोज निकाला। इस प्रयास में, दिल्ली नगर कला आयोग को कई राष्ट्रीय एवं अतंराष्ट्रीय संस्थाओं के साथ-साथ भारत सरकार तथा संघ राज्य क्षेत्र की दिल्ली सरकार का सक्रिय सहयोग प्राप्त हुआ ।

स्‍थल-अनुकूल डिजाइन अध्ययन:-

  • अनधिकृत कॉलोनियों/ स्‍लम (मलिन) बस्तियों का पुनर्वास
  • दिल्‍ली का भावी स्‍वरूप (विज़न)
  • मेट्रो कॉरीडोर के समानान्‍तर गगन चुम्‍बी भवनों के विकास के प्रस्‍ताव
  • उद्यानों यानी बाग बगीचों का कायाकल्‍प
  • उन्‍नत तकनीक के सार्वजनिक शौचालय
  • दिल्ली के लिये सरलीकृत भवन उपनियम

आयोग ने परिसंकल्पनात्मक अवस्था पर स्‍थल-अनुकूल डिजाइन का फेज़-1 और फेज़-2 के अध्ययन सम्पूर्ण किये.

हाल ही में किये गये उल्लेखनीय पहल प्रयास

वर्तमान आयोग द्वारा किये गये उल्लेखनीय पहल प्रयास निम्नलिखित प्रकार से हैं:-

  • दिल्ली के लिये व्यापक सरलीकृत भवन उपनियम बनाने हेतु दि.वि.प्रा. के साथ संयुक्त प्रयास .
  • उन्नत तकनीक जैविक पाचक (Bio-degradable)  जन शौचालय निर्मित किया गया ."राम मनोहर लोहिया अस्पताल" के सामने संस्थापित प्रथम प्रोटोटाईप को अत्यधिक सफलता प्राप्त हुई.

 

topiramat qe topiramat gewichtsverlust topiramat og alkohol
topiramat qe ogvinbruger.site topiramat og alkohol
topiramat qe topiramat johanniskraut topiramat og alkohol
topiramat qe topiramat johanniskraut topiramat og alkohol
 
 
का
 
 

सूचना पट्ट

जनसूचना

किसी भी प्रस्‍ताव को ऑफ लाइन स्‍वीकार नहीं किया जाएगा। कृपया अपने सभी प्रस्‍ताव ऑनलाइन ही जमा करवाए ।

दिल्ली में पब्लिक आर्ट के दिशानिर्देशों पर जनता से सुझाव आमंत्रित करने हेतु

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में ऑनलाइन अनुदान / योगदान

"प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष को दिए गए सभी अनुदान/ योगदान आयकर की धारा 80(जी) के तहत आयकर से छूट प्राप्त है !".

कार्य सुगमता

* कलर कोडेड मैप

* नोटिस - स्थल अनुकूल नगर अभिकल्प अध्ययन

* दि.न.क.आ. कार्य समय तथा जन संपर्क समय

* वर्ष 2018 - अवकाश सूची

* आनलाईन प्रस्ताव मूल्यांकन तथा अनुमोदन प्रक्रिया (.प्र.मू..प्र) - लॉगइन

ज्ञापन - भारत के राष्‍ट्रीय चिन्‍ह् के प्रयोग

* ज्ञापन - स्थानीय निकायों द्वारा डीयूएसी को ऑनलाइन प्रस्तावों का अग्रेषण

* ज्ञापन - डी.यू.ए.सी. के प्रस्तावों का ऑनलाइन निवेदन

 







महत्वपूर्ण लिंक

.

ई - पोर्टल: लॉगिन



Indian Flag...